Press "Enter" to skip to content

छोटे बडे उद्योगों को सीजीडब्ल्यूए से एनओसी लेना अनिवार्य- कुशपुरी

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मुज़फ्फरगर। आईआईए के चैप्टर चेयरमैन कुशपुरी ने बताया कि गत वर्ष सीजीडब्लयूए द्वारा उद्योगों में जल के दोहन पर नियंत्रण हेतु गाईड लाइन जारी की गयी थी, जिसमें लगभग सभी छोटे बडे उद्योगों को सीजीडब्ल्यूए से एनओसी लेना अनिवार्य है। जिसके लिए सीजीडब्ल्यूए द्वारा सभी उद्योगों को एनओसी हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 मार्च 2019 नियत की गयी थी।

इस विषय की महत्ता को समझते हुए आईआईए केंद्रीय कार्यालय लखनऊ द्वारा सीजीडब्ल्यूए से आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च से बढाकर 30 सितम्बर 2019 करने का अनुरोध किया गया था और जिसको सीजीडब्ल्यूए द्वारा स्वीकार करते हुए 30 सितम्बर तक बढा दिया गया है। जिसके लिए सीजीडब्ल्यूए द्वारा 9 अप्रैल को एक पब्लिक नोटिस जारी कर दिया गया है। जिसमें बढायी गयी तिथि की सूचना के साथ साथ उद्योगों को यह भी स्पष्ट रूप से कहा गया है कि वे निर्धारित तिथि 30 सितम्बर 2019 तक एनओसी हेतु अपना आवेदन पूर्ण कर ले अन्यथा एनजीटी राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के नियमानुसार पर्यावरण के नुकसान की भरपाई हेतु भारी अर्थदंड चुकाना होगा।

कुशपुरी ने यह भी कहा कि इस विषय की महत्ता को समझते हुए आईआईए मुज़फ्फरनगर चैप्टर द्वारा अपनी सदस्य इकाईयों को एनओसी प्राप्त कराने हेतु समय समय पर आईआईए कार्यालय में जागरूकता कैम्प में आयोजित कराये गये, जिसमें एनओसी प्राप्त करने की पूरी प्रक्रिया को समझाया गया और ओवदन भी भरवाये गये। कुशपुरी ने जिले के सभी उद्यमियों से अपेक्षा की है कि वे इस विषय की महत्ता को समझे और नियत तिथि तक अपनी आवेदन प्रक्रिया पूर्ण करा ले। जिससे कि भविष्य में उद्योग को एनओसी से संबंधित किसी समस्या का सामना न करना पडे व जिले के उद्योग अबाधित रूप से अपना उत्पादन कार्य करते रहे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.
More from खबरMore posts in खबर »
More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    Mission News Theme by Compete Themes.