Press "Enter" to skip to content

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया ने ली #PrideInDiversity की शपथ

मुम्बई: ‘पसंदीदा नियोक्ता’ होने के अपने खिताब पर खरा उतरते हुए, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएन) ने समावेशन (इन्क्लूजिविटी) के लिए अपनी प्रतिबद्धता को बढ़ावा देने की दिशा में एक और कदम बढ़ाया है। सभी कर्मचारियों के लिए अनुकूल माहौल निर्मित करने के उद्देश्य से नेटवर्क ने अपनी कंपनी की नीतियों को लैंगिक रूप से तटस्थ बनाने के लिए उनमें संशोधन किया है।

अपने मूल में एसपीएन हमेशा ही एक समावेशी और सम्मानजनक कार्यस्थल रहा है। इस पहल के तहत नेटवर्क घोषित साझेदारों के लिए चिकित्सा लाभ और बीमा कवरेज का दायरा बढ़ाएगा। नए संशोधन के अनुसार, मातृत्व/पितृत्व नीतियों को आम अभिभावक नीतियों में बदला गया और प्राथमिक और द्वितीयक देखभाल करने वालों की परिभाषाओं में विस्तार किया गया है। प्राथमिक देखभाल करने वालों में अब वे सभी कर्मचारी शामिल होंगे जिन्होंने गोद लेने/सरोगेसी के मामले में खुद को प्राथमिक देखभाल कर्ता के रूप में नामांकित किया है। द्वितीयक देखभाल करने वालों में वे सभी कर्मचारी शामिल होंगे, जिनका पिछले छह महीनों में एक बच्चा हुआ है, लेकिन उन्होंने बच्चे को जन्म नहीं दिया है और गोद लेने/सरोगेसी के मामलों में खुद को प्राथमिक देखभाल करने वाले के तौर पर नामांकित नहीं किया है।

सभी कर्मचारियों के लिए समान सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, नेटवर्क ने आचार संहिता में बदलाव भी किए हैं। इनके अनुसार, यौन उत्पीड़न की परिभाषा में अब सामान्य रूप से एलजीबीटी+ समुदाय पर अभद्र भाषा/पक्षपाती और असहिष्णु टिप्पणियां भी आएंगी। नीतियों को लैंगिक रूप से तटस्थ बनाए जाने के अलावा, एसपीएन ने अपने मुंबई और गुरुग्राम कार्यालयों में लैंगिक तटस्थ वाशरूम जैसे ढांचागत परिवर्तनों की भी घोषणा की है।

इस तरह के प्रयासों के जरिए सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएन) ने हमेशा ही समुदायों को सशक्त बनाने और एक विविधतापूर्ण, समावेशी व खुशहाल कार्यस्थल निर्मित करने का लक्ष्य रखा है। यह पहल विविधता का समर्थन करने के लिए नेटवर्क द्वारा उठाए गए कई कदमों में से एक है। एसपीएन अपनी जन-अनुकूल नीतियों के माध्यम से एक रचनात्मक और इनोवेटिव कार्यबल को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है।

“सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स में हम अपने कार्यबल की विविधता को महत्व देते हैं और सभी के अनुकूल काम के माहौल को बढ़ावा देने के लिए हमेशा समावेशन को प्रोत्साहित करना चाहते हैं। अपनी नीतियों में हालिया संशोधनों के जरिए हम अपने कर्मचारियों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि एसपीएन सभी को समान अवसर देने वाला नियोक्ता है, जहां हमारा मानना है कि हमारे लोग सबसे ज्यादा खुश तब होते हैं, जब वे बिना किसी आशंका के आराम से काम करने के लिए पूरे तन-मन से तैयार होते हैं।”
मनु वाधवा, मुख्य मानव संसाधन अधिकारी, एसपीएन

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.