Press "Enter" to skip to content

नींद की गोली लेतें हैं तो हो जाएं सावधान, हो सकती हैं कई गंभीर बीमारियां

नई दिल्ली। किन्हीं कारणों से अगर आप नींद की गोलियां लेते हैं तो, कोशिश कीजिए, जितनी जल्दी हो सके, इससे छुटकारा ले लीजिए। यह शरीर, स्वास्थ्य और दिल-दिमाग के लिए बेहद नुकसानदेह हैं।

स्पेन की ऑटोनोमी डी मैड्रिड यूनिवर्सिटी के ताजा अध्ययन में पता चला है कि इन गोलियों से बूढ़े व्यक्ति में ब्लड प्रेशर (बीपी) प्रभावित करता है। इसके अलावा कुछ खास तरह की नींद की गोलियां नियमित सेवन करने से अल्जाइमर रोग का खतरा बढ़ सकता है। 700 से ज्यादा बुजुर्गों पर किए गए अध्ययन से यह पता चला है कि नींद की गोलियों से स्वाभावित नींद नहीं आती। बल्कि इससे शरीर और मन पर बुरा असर पड़ता है। बार-बार उपयोग करने से याददाश्त कमजोर होने लगती है। वहीं इन दवाइयों का लगातार इस्तेमाल से इनका असर भी कम होने लगता है, जिससे डोज बढ़ानी पड़ती है। अध्ययन से पता चला है कि 35 मिलीग्राम के स्टैंडर्ड डोज लेने से दिल के दौरे का खतरा 20 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। जबकि साल में करीब 60 नींद की गोलियां लेने से यह रिस्क 60 प्रतिशत हो सकता है। नींद की दवाओं में मौजूद तत्व जोपिडेम को दिल की बीमारियों की वजह बताया गया है। वहीं गर्भवती महिलाएं यदि डॉक्टर की सलाह के बगैर नींद की गोलियां लेती हैं तो इसका असर उनके भावी संतान पर भी पड़ने का खतरा रहता है। अध्ययन रिपोर्ट के मुताबिक लंबे समय तक नींद की गोलियां लेते रहने से रक्त नलिकाओं में थक्के बन जाते हैं और याददाश्त कमजोर होने लगता है।

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.