Press "Enter" to skip to content

टीबी रोगी खोज अभियान में मिले 113 मरीज, 103 मरीज को फेफड़ों व 10 को अन्य अंगों में टीबी

मेरठ। जनपद में गत 10 जून से चल रहे टीबी रोगी खोज अभियान में विभाग को काफी सफलता मिल रही है। इस अभियान में अब तक 1181 मरीजों के सेंपल लिये गये जिसमें जांच में 113  लोग  पोजिटिव पाये गये हैं।इनमें 103  मरीजों के फेफड़ों में जबकि 10 मरीजों  के शरीर के अन्य अंगों में टीबी के लक्षण पाये गये हैं। विभाग की ओर से इनका निशुल्क उपचार शुरू कर दिया  गया है।

जिला क्षय रोग अधिकारी डा एमएस फौजदार ने बताया जिले से टीबी को समाप्त करने के लिये  जिले में सघन टीबी रोगी खोज अभियान के तहत घर-घर जाकर टीबी रोगियों की खोज की जा रही है। घर के सभी सदस्यों की प्राथमिक जांच विभाग की प्रशिक्षित टीमों के द्वारा की जा रही है। इसके लिये शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के लिये 142 टीमों को लगाया गया है। 1181 लोगों के सेंपल लिये गये। इनकी जांच में 113 लोगों में टीबी के लक्षण पाये गये। इसमें से 103 मरीजों के फेफड़ों में,जबकि 10 मरीजों के शरीर के अन्य हिस्सों में टीबी के लक्ष्ण पाये गये।उन्होंने बताया कि  टीमों की निगरानी के लिये वह स्वंय क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं।  एक टीम में तीन सदस्य हैं, जिसमें एक स्वास्थ्य कर्मी एक आंगनबाडी व एक आशा शामिल है। उन्होंने बताया इस बार घर के हर सदस्य से बातचीत और उसकी पूरी तहकीकात  की जा रही है। जिससे किसी भी प्रकार की चूक न हो। उन्होंने बताया एक टीबी मरीज 10 से 15 मरीजों कोसंक्रमित कर देता है। ऐसे टीबी मरीज का उपचार हर हाल में जरूरी है। अगर कोई भी मरीज बिना पहचान के रह गया तो कडी टूट जाएगी। हर घर के सदस्य  से यह जानकारी प्राप्त की जा रही है कि घर के अंदर किसी को 15 दिन से बुखार व खांसी तो नहीं है। बलगम में खून तो नहीं आ रहा है। उसका वजन तो कम नहीं हो रहा है।

टीबी विभाग की कोर्डिनेटर  शबना बेगम ने बताया टीबी खोजी अभियान के तहत मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारा , रेलवे स्टेशन, बस अडडों व सार्वजनिक स्थानों पर टीबी से बचाने के लिये  प्रचार व प्रसार किया जा रहा है। इसके लिये नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से लोगों को टीबी के प्रति जागरूक किया जा रहा है। लोगों को धूम्रपान न करने की सलाह दी जा रही है।

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.