Press "Enter" to skip to content

सोनिया गांधी के नेतृत्व में पूरी पार्टी एकजुट, कांग्रेस में जी-23 जैसा कोई ग्रुप नहीं है

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी में जी-23 नाम का कोई ग्रुप नहीं है और पूरी पार्टी सोनिया गांधी के नेतृत्व में एकजुट है। जब उनसे जी-23 समूह के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि पूरी कांग्रेस एक है। हालांकि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री वीरप्पा मोइली सोनिया गांधी को लिखे गए पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में से एक हैं। यह बात यहां पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली ने कहा कि जी-23 नाम की कोई चीज नहीं है। कांग्रेस पार्टी सोनिया गांधी के नेतृत्व में एकजुट है। वो हमेशा लोगों की शिकायतों को सुनती है। हालांकि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री वीरप्पा मोइली सोनिया गांधी को लिखे गए पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में से एक हैं। पार्टी के कुछ नेताओं ने पिछले साल सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में व्यापक सुधार की मांग की थी, तब से कांग्रेस मुश्किल समय का सामना कर रही है। एक अन्य कांग्रेस नेता, संदीप दीक्षित ने कहा, “पार्टी में कोई गुट नहीं है और मैं उन नेताओं के संपर्क में नहीं हूं, जो हाल ही में जम्मू में इकट्ठे हुए थे। कई कांग्रेस नेताओं ने कहा है कि उनका एकमात्र मकसद देश में पार्टी को मजबूत करना है।

पांच राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों में चुनाव का सामना करने के लिए तैयार कांग्रेस ने इन नेताओं को सलाह दी है कि भाजपा को हराने के लिए सभी एकजुट हो जाएं और अब सभी की निगाहें पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची पर है। पिछले साल अगस्त में पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले कांग्रेस के कई नेताओं को या तो पार्टी में समायोजित किया गया है या उन्हें कुछ महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं। पृथ्वीराज चव्हाण को असम के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया और मोइली को तमिलनाडु में चुनाव प्रबंधन प्रभारी के रूप में नियुक्त किया गया। हालांकि, कई दौर की बैठकों के बावजूद भी कांग्रेस में स्थिति सामान्य नहीं है। असंतुष्ट नेताओं का कहना है कि वे ब्लॉक से सीडब्ल्यूसी स्तर तक चुनाव चाहते हैं।

More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.