Press "Enter" to skip to content

नई लोकसभा का पहला सत्र शपथ ग्रहण के साथ शुरू, बदला-बदला नजर आया सदन का चेहरा

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

नई दिल्ली। सोमवार को यहां संसद में सत्रहवीं लोकसभा का पहला सत्र शुरू हो गया है, जिसकी शुरूआत नवनिर्वाचित सांसदों के शपथ ग्रहण के साथ हुई, जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ उनके मंत्रिमंडल के अलावा 300 से जयादा सांसदों ने सदन की सदस्यता और गोपनीयता की शपथ ली। लोकसभा का चेहरा पिछली सरकार में विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज समेत केई चेहरों के गायब होने और नए सांसदों के आने से बदला हुआ नजर आया।

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव में प्रचंड बहुमत के साथ फिर से मोदी सरकार आने के बाद लोकसभा भी बदली-बदली नजर और सदन में एक उत्सव का माहौल था, जहां भाजपा के ज्यादातर भगवा भेशभूषा में नजर आए तो वहीं विभिन्न राज्यों के सांसद अपनी पारंपरिक वेशभूषा में आए थे। वहीं सत्ता पक्ष में इस बार चुनाव न लडने के कारण लालकृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी नजर नहीं आए, वहीं विपक्ष में भी कांग्रेस के मलिकार्जुन खडगे व ज्योति दित्याराव सिंधिया के चुनावी जंग हारने से उनके स्थानों पर नए चेहरे बैठे दिखे। सांसदों को लोकसभा के कार्यवाहक अध्यक्ष बनाए गये डा. विरेन्द्र कुमार ने शपथ ग्रहण कराई। इससे पहले कार्यवाहक अध्यक्ष विरेन्द्र कुमार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शपथ दिलाई। लोकसभा में सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके मंत्रिमंडल में शामिल सदस्यों ने शपथ ग्रहण की। इसके बाद अंग्रेजी के ए टू जैड अक्षर के अनुसार राज्यों में सबसे पहले आंध्र प्रदेश के लोकसभा सांसदों को शपथ ग्रहण कराई गई। इसी क्रम में सदन की कार्यवाही के दौरान 26 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों की लोकसभा सीटों से निर्वाचित होकर आए सांसदों को शपथ दिलाई गई। शाम छह बजे बाद स्थगित की गई सदन की कार्यवाही तक ओडिशा राज्य के सांसदों को शपथ दिलाई जा चुकी थी।

स्मृति के लिए बजीं खूब तालियां
अमेठी लोकसभा सीट से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराकर पहली बार निचले सदन के सदस्य के रूप में पहुंचीं केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने सोमवार को जब 17वीं लोकसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली तो बीजेपी के सांसदों ने काफी देर तक मेजें थपथपाकर उनका अभिनंदन किया। जैसे ही स्मृति का नाम शपथ ग्रहण के लिए बोला गया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, अन्य केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों समेत सत्तारूढ़ बीजेपी सदस्यों को देर तक मेजें थपथपाते देखा गया। स्मृति इरानी ने हिंदी में शपथ लेने के बाद कार्यवाहक लोकसभा अध्यक्ष वीरेंद्र कुमार का अभिनंदन किया। उन्होंने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत अन्य विपक्षी नेताओं का भी हाथ जोड़कर अभिनंदन किया। सोनिया ने भी हाथ जोड़कर स्मृति का अभिवादन किया। सदन में राहुल गांधी उपस्थित नहीं थे।

पहली पंक्ति में नजर आए कई केंद्रीय मंत्री
मोदी कैबिनेट के कई वरिष्ठ मंत्री पहली पंक्ति में नजर आए। परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, सदानंद गौड़ा, और पटना साहिब लोकसभा सीट से शत्रुघ्न सिन्हा को हराकर सदन पहुंचे रविशंकर प्रसाद, नरेंद्र सिंह तोमर और हरसिमरत कौर पहली पंक्ति में दिखे। रामविलास पासवान भी सदन में मंत्री होने के कारण मौजूद थे, लेकिन इस बार वह लोकसभा के सदस्य नहीं है। माना जा रहा है कि खाली हुई राज्यसभा की सीटों में से एक सीट से उन्हें राज्य सभा भेजा जाएगा। चुनाव से पहले ही एलजेपी और बीजेपी के बीच यह समझौता हो गया था।

इस बार कई दिग्गज चेहरे सदन में नहीं दिखेंगे
कांग्रेस और बीजेपी दोनों के ही कई दिग्गज चेहरे इस बार सदन में नजर नहीं आएंगे। बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती जैसे दिग्गजों ने इस बार चुनाव नहीं लड़ा। कांग्रेस के कई बड़े चेहरे मल्लिकार्जुन खड़गे, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दीपेंदर हुड्डा चुनाव हारने के कारण सदन में नहीं नजर आएंगे।

ये चेहरे सदन में फिर नजर आए
लोकसभा में सोमवार को कुछ ऐसे चेहरे भी दिखाई दिये जो पिछले सत्र में सदस्य नहीं थे लेकिन उससे पहले निचले सदन के सदस्य रह चुके हैं।इनमें उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, द्रमुक के वरिष्ठ नेता दयानिधि मारन, ए राजा और टी आर बालू, गोवा के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता फ्रांसिस्को सरदिन्हा तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी शामिल हैं। केंद्रीय मंत्री अमित शाह, रविशंकर प्रसाद, स्मृति ईरानी और द्रमुक नेता कनिमोई पहली बार लोकसभा पहुंचे हैं और इससे पहले वे राज्यसभा के सदस्य रहे हैं। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और एस जयशंकर भी सदन में पहले दिन की बैठक में उपस्थित थे जो अभी किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं। सपा नेता अखिलेश यादव को विपक्ष की तरफ सबसे पीछे की पंक्ति में बैठे देखा गया। उनके पिता मुलायम सिंह यादव पहली पंक्ति में बैठे थे।राकांपा नेता सुप्रिया सुले को कनिमोई को गले लगाकर अभिनंदन करते हुए देखा गया। सुले स्वयं भी 2014 तक राज्यसभा की सदस्य रही हैं। सदन की बैठक शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी, सपा नेता मुलायम सिंह यादव, तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंदोपाध्याय और कल्याण बनर्जी आदि का अभिवादन करते हुए देखा गया।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Be First to Comment

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    Mission News Theme by Compete Themes.