Press "Enter" to skip to content

भारत में संक्रमण दर अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, इटली और जर्मनी से भी ज्यादा 

नई दिल्ली।कोरोना संक्रमण से देश में  स्वस्थ होने वाले मरीजों का आंकड़ा भले ही 14 लाख से ऊपर हो लेकिन यहां कि परिस्थिति भयावह है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से 30 जनवरी को कोरोना वायरस घोषित किए जाने के 190वें दिन सात अगस्त तक जांच और संक्रमित के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया। विश्लेषण से पता चलता है कि भारत में संक्रमण की दर कोरोना से बुरी तरह प्रभावित दुनिया के पांच देशों अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, इटली और जर्मनी से भी ज्यादा है। जॉन हापकिन्स कोरोना रिसर्च सेंटर के आंकड़ों का विश्लेषण करने से ये हैरान करने वाले नतीजे सामने आए हैं। अमेरिका में शुक्रवार तक 6,31,58,906 सैंपल की जांच हुई है और कुल 50,35,835 मामले सामने आए हैं। सैंपल जांच के आधार पर संक्रमण की दर 0.07 फीसदी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर के आंकड़ों के अनुसार देश में शुक्रवार तक कुल 2,33,87,171 सैंपल की जांच की गई और 20.88 लाख लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। जांच के आधार पर भारत में संक्रमण की दर 0.08 फीसदी है जो अमेरिका से ज्यादा है।

मेक्सिको और ब्राजील में हालात खराब-आंकड़ों के अनुसार, कोरोना महामारी घोषित होने के 190वें दिन मेक्सिको में कुल 4,62,690 मरीज मिले और कुल 10,56,915 सैंपल की जांच की गई है। करीब साढ़े दस लाख सैंपल में इतने ज्यादा मरीज मिलने से यहां संक्रमण की दर 0.43 फीसदी है।

प्रति दस लाख की आबादी में सबसे कम जांच-देश में दस दिनों से लगातार 50 हजार से अधिक मरीज मिल रहे हैं। अमेरिका में प्रति 10 लाख आबादी पर 1,90,698 सैंपल, ब्राजील में 62,085 की जांच हो रही है जबकि शीर्ष तीन देशों में तीसरे नंबर पर भारत में प्रति दस लाख की आबादी पर महज 17 हजार जांचें हो रही हैं।फोटो साभार-tv9bharatvarsh.com

More from खबरMore posts in खबर »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.