Press "Enter" to skip to content

जनपद में 8 से 10 जून तक विश्व का पहला गुड महोत्सवः डीएम

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश सरकार की महत्वकांक्षी योजना एक जनपद एक उत्पाद के अंतर्गत गुड महोत्सव पहली बार मुजफ्फरनगर जनपद में आयोजित होने जा रहा है। 8 जून से 10 जून तक चलने वाले 3 दिवसीय इस आयोजन में कार्यशालाएं, विचार गोष्ठियों के अलावा प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जायेगा। जिसमें गुड उत्पादक अपने अपने उत्पादों का प्रदर्शन करेंगे।

8 जून को 11.30 बजे दिन में केंद्रीय मंत्री एवं मुजफ्फरनगर के सांसद डा. संजीव बालियान इस गुड महोत्सव का उद्घाटन करेंगे। अगले दिन उत्तर प्रदेश के गन्ना मंत्री सुरेश राणा और भाकियू नेता राकेश टिकैत इस आयोजन में शामिल होंगे और तीसरे दिन इसका समापन जनपद के प्रभारी मंत्री सतीश महाना करेंगे।

उपरोक्त जानकारी देते हुए जनपद के जिलाधिकारी डा. अजयशंकर पाण्डेय ने बताया कि सम्भवतः यह दुनिया का पहला गुड महोत्सव है जो मुजफ्फरनगर में आयोजित होने जा रहा है अभी से इसकी महत्ता इसलिए साबित हो रही है कि आईएएस तैयार करने वाले संस्थानों में भी प्रशिक्षणार्थियों को इस आयोजन की सूचना दी गयी है कि वे इससे सीख ले। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश शासनर ने इस जनपद को गुड के लिए चिन्हित किया है हमारे जनपद में आठ चीनी मिले है जिनका 60 फीसदी उत्पादन चीनी में तथा 40 फीसदी उत्पादन गुड़ के लिए होता है। हम चाहते है कि गुड उत्पादन संगठित कुटीर उद्योग के रूप में विकसित हो और इसके लिए उचित बाजार सामने आये। इसके लिए गुड़ का उत्पादन करने वाले कोल्हूओं का सर्वे किया गया है जिसके बाद पता चला कि 800 लोग गुड़ के उत्पादन अर्थात कोल्हू में लगे हुए है जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि इस महोत्सव के दौरान एक स्मारिका का प्रकाशन किया जायेगा जिसमें गुड़ उत्पादकों, व्यापारियों आदि के नाम, नम्बर एवं पते भी मौजूद होंगे। इससे लोगों को माॅल खरीदने में राहत मिलेगी। उन्होंने गुड उत्पादों के लिए मानकीकरण एवं पैकेजिंग की व्यवस्था के लिए जोर दिया।जिलाधिकारी ने कहा कि गुड महोत्सव के लिए अधिकाशं जिम्मेदारियां श्रीराम ग्रुप ऑफ कालेजज को दी गयी है जिनके सहयोग से यह आयोजन किया जा रहा है।

इस अवसर पर बोलते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि गुड़ महोत्सव इस जनपद में पहली बार हो रहा है और इस जनपद की एक सकारात्मक पहचान गुड़ मंडी के रूप में मौजूद है। उन्होंने बताया कि इस आयोजन का मुख्य बिंदु ये रहेगा कि गुड़ और गन्ने के रस से हम कैसे अन्य उत्पाद बना सकते है और इनका उत्पादन कैसे बढ़ सकता है और नई तकनीक का इसमे क्या प्रयोग किया जा सकता है? एसएसपी ने कहा कि गुड़ महोत्सव के माध्यम से गुड़ के प्रयोग से होने वाले लाभ विभिन्न बीमारियों से छुटकारा, आर्युवेदिक एवं होम्योपैथिक दवाईयों में गुड के प्रयोग आदि विभिन्न बिंदुंओं पर भी चर्चा की जायेगी।

मुख्य विकास अधिकारी अर्चना वर्मा ने इस अवसर पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि हम साक्षी बनेंगे ऐसे गुड़ महोत्सव के जो अपनी ऐतिहासिक पहचान बनायेगा। उन्होंने कहा कि गुड़ की पहचान मुजफ्फरनगर से है गुड़ का निर्यात कैसे बढ़े चीनी के मुकाबले किसानेां को गन्ने का उचित दाम कैसे मिले इस महोत्सव के बाद अभिलेखों के संकलीकरण से इसका पता चलेगा। इससे पूर्व श्रीराम ग्रुप ऑफ कालेजेज के चेयरमैन डा. एससी कुलश्रेष्ठ एवं प्रेरणा मित्तल ने बुके देकर जिलाधिकारी के अलावा अन्य अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर समाजसेवी भीमसैन कंसल के अलावा जिला गन्ना अधिकारी आर. डी. द्विवेदी, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित सिंह, मंडी समिति के सचिव राकेश कुमार, जिला उद्योग केंद्र के उपायुक्त परमहंस मौर्य, एआरटीओ प्रशासन राजीव बंसल सहित अनेक अधिकारी मौजूद रहे।

पत्रकार वार्ता के दौरान श्रीराम कॉलेज के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग द्वारा तैयार डाक्यूमैन्ट्री में दर्शाया गया कि किस प्रकार थाना भोपा क्षेत्र के गांव सिकन्दरपुर गडवाडा के पूर्व प्रधान ने अपने कोल्हू का नवीनीकरण कर उसमे नई तकनीक का इस्तेमाल किया है और उत्पादन की टैस्टिंग के लिए एक लैब की भी स्थापना की है। लोगों को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए।

More from खबरMore posts in खबर »
More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *