Press "Enter" to skip to content

दिल्ली में लागू हुआ वीकेंड कर्फ्यू, शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 6 तक रहेंगी पाबंदियां

नई दिल्ली। दिल्ली में जारी कोरोना महामारी के कोहराम के बीच स्थिति को काबू करने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह छह बजे तक के लिए वीकेंड कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है। केजरीवाल गुरुवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल के साथ बैठक में शहर के कोविड-19 हालात पर हुई चर्चा के बाद वीकेंड कर्फ्यू की घोषणा की है। वीकेंड कर्फ्यू के दौरान मॉल, स्पा, जिम, ऑडिटोरियम आदि सब बंद रहेंगे, लेकिन सिनेमा हॉल 30 प्रतिशत क्षमता के साथ चल सकेंगे।

केजरीवाल ने कहा कि एक साप्ताहिक बाजार को एक दिन में और एक जोन के हिसाब से अनुमति दी जाएगी। साप्ताहिक बाजार में ज्यादा भीड़ न हो इसके लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं। रेस्टोरेंट में अब बैठ कर खाने की इजाजत नहीं होगी, केवल होम डिलीवरी की अनुमति होगी। हम जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों और शादियों के लिए लोगों को कर्फ्यू पास देंगे। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के अस्पतालों में बेड्स की कोई कमी नहीं है। अभी 5,000 से ज्यादा बेड खाली हैं, लेकिन मरीजों के चूजी होने से थोड़ी दिक्कत हो सकती है। हमारा प्रयास है कि दिल्ली में सभी मरीजों को इलाज और बेड मिल सकें।

सुप्रीम कोर्ट के जज के आवास पर तैनात पूरा स्टाफ कोरोना पॉजिटिव

भारत में कोरोना वायरस का कहर अब खतरनाक रूप ले रहा है। सुप्रीम कोर्ट (उच्चतम न्यायालय) के जस्टिस एम आर शाह के आवास के स्टाफ के सभी सदस्य कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। न्यायाधीश ने गुरुवार को एक मामले की सुनवाई के दौरान यह जानकारी दी। बीते कुछ दिनों में उच्चतम न्यायालय के 40 से अधिक कर्मचारी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने एक गाइडलाइन जारी की है, जिसमें कहा गया है कि अगर अदालत परिसर में आने वाले किसी भी व्यक्ति को कोरोना के लक्षण हैं तो आरटी-पीसीआर टेस्ट जरूरी है। इतना ही नहीं, सुप्रीम कोर्ट में आने वाले सभी जजों, कर्मचारियों, वकीलों, वकीलों के स्टाफ को कोविड टेस्ट कराकर ही दाखिल होना होगा।

मई तक भारत आएगी रूस की स्पुतनिक वी वैक्सीन, डीसीजीआई ने दी मंजूरी

भारत में कोरोना की दूसरी लहर तीसरे चरण के वैक्सीनेशन अभियान से भी कोरोना संक्रमण का फैलाव नहीं रुक रहा है। ऐसे में देश के टीकाकरण अभियान में रूसी टीका स्पुतनिक वी को जल्द शामिल करने का फैसला किया गया है। भारत सरकार ने रूसी टीके स्पुतनिक वी को मई के आखिरी तक आयात करने का आदेश दिया है। बता दें कि भारत से पहले अर्जेंटीना, मैक्सिको समेत 59 देशों ने रूसी स्पुतनिक वी वैक्सीन को उपयोग करने की मंजूरी दी है।

भारत में तीसरे टीके की मंजूरी

दरअसल, देश में वैक्सीन की कमी की खबर के बीच सरकार ने टीका उत्पादन बढ़ाने की दिशा में बड़ा कदम उठाया हैं। रूस में तैयार की गई स्पुतनिक वी वैक्सीन को मई के आखिरी तक भारत आने की उम्मीद है। मीडिया सूत्रों के मुताबिक कोरोना पर काबू पाने के लिए अक्टूबर तक देश में पांच और टीके उपलब्ध हो जाएंगे। फिलहाल भारत में दो टीके कोविशील्ड और कोवैक्सिन का उत्पादन हो रहा है।  भारत में यह तीसरा टीका है जिसे कोविड-19 के खिलाफ भारत में उपयोग करने की अनुमति दी गई है।

जुलाई से शुरू होगा वैक्सीन का उत्पादन

भारत की दवा नियामक संस्था ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है।रत की दवा नियामक संस्था डीसीजीआई किसी भी दवा को इस्तेमाल के लिए मंजूरी देने से पहले उसकी सुरक्षा और असर को लेकर परीक्षण करता है। कोविशील्ड और कोवैक्सीन वैक्सीन को भी डीसीजीआई से मंजूरी मिलने के बाद इस्तेमाल की इजाजत मिली थी। डॉ रेड्डीज लैब्स के साथ स्पुतनिक वी साझेदारी हुई है। स्थानीय उत्पादन, जून के अंत या जुलाई की शुरुआत में की जाएगी।देश में स्पुतनिक वी की मंजूरी मिलने के अलावा पांच और टीके जल्द ही उपलब्ध कराए जाएंगे। यानी देश में अगले कुछ महीनों में स्पुतनिक वी की कम से कम 50 मिलियन खुराक का उत्पादन शुरू हो जाएगा। विशेषज्ञों ने बताया कि स्पुतनिक 90% से अधिक प्रभावकारी वाले तीन टीकों में से एक है।

More from देश प्रदेशMore posts in देश प्रदेश »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *