Press "Enter" to skip to content

योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है- प्रभारी जिलाधिकारी

मुजफ्फरनगर- प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी अर्चना वर्मा ने कहा कि योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है। उन्होने बताया कि 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 193 सदस्यों द्वारा 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली थी । इसके बाद से 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। जनपद में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयेाजन अनेकों स्थानो पर होगा। आयोजन में प्रमुख रूप से जिला स्टेडियम में योग करने के लिए नागरिक उपस्थित होगे जिसमें महिलाएं, बुजुर्ग, बच्चों, स्वमसेवी संस्थाओं, जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा प्रतिभाग किया जायेगा। उन्होने बताया कि जिला स्टेडियम में योग कराने के लिए प्रशिक्षक उपस्थित रहेगे और योगासन करायेगे। 

उन्होने कहा कि कहा कि 21 जून को स्टेडियम मुजफ्फरनगर में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन प्रातः 6 बजे से किया जायेगा। उन्हेाने कहा कि योग दिवस पर सभी वर्गो जनसामान्य और जन प्रतिनिधियों को जोडा जायेगा।  योग दिवस पर ग्राम प्रधानों सहित स्कूली बच्चों को भी प्रतिभाग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाये। उन्होने कहा कि गत वर्ष की भांति ही कार्यक्रम मेे प्रतिभाग करने वाले सभी प्रतिभागियों से योग के अवसर पर सेल्फी लिए जाने का भी आहवान किया जाये। उन्होने कहा कि सभी तहसील मुख्यालयों व ब्लाॅक मुख्यालय पर भी अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयरियों कराई जाये। उन्होने बताया कि प्राचीन काल से ही हमारे देश में योग की महत्ता है और प्रचीन ग्रंथों में भी योग का उल्लेख मिलता है। उन्हेाने कहा कि योग ऐसा प्रभावशाली माध्यम है जिसके द्वारा मन व मस्तिष्क को संतुलित रखा जा सकता है। प्रभारी जिलाधिकारी अर्चना वर्मा बुधवार को कलैक्ट्रेट सभागार में 21 जून को मनाये जाने वाले अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक कर रही थी।

प्रभारी जिलाधिकारी ने कहा कि योग हमारे जीवन को उर्जावान बनाये रखने के लिए अचूक दवा है। हमे नित्यरूप से योग करना चाहिए ताकि हमारे अन्दर स्फूर्ति का संचार हो और हमारी काया निरोगी रहे। योग से हम आज के परिवेश में अपने जीवन को सुखी बना सकते है। आज के प्रदूषित वातावरण मेे योग के द्वारा अनेको बीमारियों से निजात पा सकते है। योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है। योग हमारे मानसिक, शारीरिक व आत्मिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। उन्होने कहा कि योग एक ऐसी प्राकृतिक व सुलभ पद्वति है जिसके द्वारा स्वस्थ मन एवं शरीर के साथ अनकेा आध्ययात्मिक लाभ प्राप्त किये जा सकते है। 

इस अवसर अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 आलोक कुमार, एसडीएम सदर कुमार धमेन्द्र, एसडीमए बुढाना, खतौली, सीओ नई मण्डी, जिला क्रीडा अधिकारी, सहित अन्य अधिकारीगण एवं योग सस्थाओं से जुडे लोग उपस्थित थे

More from शहरनामाMore posts in शहरनामा »
More from सेहत जायकाMore posts in सेहत जायका »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.